ncert solutions for class 10 science chapter 8 - जीव जनन कैसे करते हैं?

ncert solutions for class 10 science chapter 8


नमस्कार दोस्तो आज हम आपके लिए ले कर आये है, ncert सॉल्यूशन्स science क्लास 10 का चैप्टर 8 का जीव जनन कैसे करते हैं के बारे में importent प्रश्न।
ये सभी प्रश्न ncert पर आधारित है।
   
                      Page first
ncert solutions for class 10 science chapter 8


1 डी एन ए प्रतिकृति का प्रजनन में क्या  महत्व है?
Dna प्रतिकृति में एक Dna अनु से दो अणु बनते हैं। Dna की प्रतिकृति के साथ-साथ दूसरी कोशिकीय रचनाओ का जन्म भी होता रहता है। इसके बाद dna की प्रतिकृतिया अलग हो जाती है। इसके फलस्वरूप एक कोशिका से 2 कोशिकाये बनती है। इस प्रकार यह वृद्धि एवं प्रजनन के लिए आवश्यक है।

2 जीवो में विभिन्नता स्पीशीज के लिए तो लाभदायक है परंतु व्यष्टि के लिए आवश्यक नही है।
क्योंकि जीवो में विभिन्नता उनकी स्पीशीज की समष्टि को स्थायित्व प्रदान करता है। कोई भी एक समष्टि अपने निकेत के प्रति अनुकूलित होते हैं, परंतु विषम परिस्थितियों में जब कोई निकेत उनके अनुकूल नहीं रह जाता है तब यही विभिन्नता उनकी समष्टि के समूल विनाश से बचाता है। उनके समष्टि में कुछ ऐसे भी जीव होते हैं जो उन विषम परिवर्तन का प्रतिरोध कर पाते हैं और वे जीवित बच जाते है।

                          Page second
ncert solutions for class 10 science chapter 8

1 द्विखण्डन बहुखंडन से किस प्रकार भिन्न है?

द्विखण्डन-- इसमे जीव खंडित होकर दो भागों में विभाजित हो जाता है।

बहुखंडन-- इसमे जीव खंडित होकर दो या दो से अधिक भागो में विभाजित हो जाता है।

2 बीजाणु द्वारा जनन से जीव किस प्रकार लाभान्वित होता है?
बीजाणु एक विशेष प्रकार ka जनन संरचना है। जो बहुत हल्के होते हैं एवं कई कारणों से ये बीजाणु अपने गुच्छ से अलग हो इधर उधर फैल जाते हैं। ये जीव के जनन भाग होते हैं जो विषम परिस्थितियों में इनकी मोटी भिति के कारण सुरक्षित रहते हैं और नमसतः के सम्पर्क में आते ही वृद्धि करने लगते हैं। अतः ये अनुकूल परिस्थितियों में ही वृद्धि करते हैं।

3 क्या आप कुछ कारण सोच सकते हैं जिसमे पता चलता हो कि जटिल संरचना वाले जीव पुनरुदभवन द्वारा नई संतति उत्पन्न नहीं कर सकते?

जटिल संरचना वाले जीवों में जनन भी जटिल होता है। पुनरुदभवन एक प्रकार से परिवर्धन है जिसमे जीव के गुणों में अंतर नही आता। यह जनन के समान नही है। जटिल संरचना वाले जीव पुनरुदभवन के द्वारा किसी भी भाग को काट कर सामान्यत: वैसी जीव उत्पन्न नही कर सकते। क्योंकि उन का शरीर अंगों और तंत्रो में विभाजित होता है।

ncert solutions for class 10 science chapter 8 notes

कुछ पौधों में उगाने के लिए कायिक प्रवर्धन का उपयोग क्यों किया जाता है?
कुछ पौधों को उगाने के लिए कायिक प्रवर्धन का उपयोग किया जाता है।

1 जिन पौधों में बीज उत्पन्न करने की क्षमता नही होती है उनका प्रजनन कायिक प्रवर्धन द्वारा ही किया जाता है।

2 इस विधि द्वारा उगाई गए पौधे में बीज द्वारा उगाये गए पौधों की अपेक्षा कम समय में फल और फूल लगने लगते हैं।

3 इस विधि द्वारा उगाये गए पौधों में फल एवं फुल जनक पौधों के समान ही होते हैं।

नियंत्रण एवं समन्वय

5 डी एन ए की प्रतिकृति बनाना जनन के लिए आवश्यक क्यों हैं?
1 डी एन ए की प्रतिकृति का बनना जनन के लिए मूल घटना है। जो संतति जीव में जैव विकाश के लिए उत्तरदायी होती हैं।
2 डी एन ए की प्रतिकृति में यह परिवर्तनशील परिस्थितियों में जीवित रहने की क्षमता प्रदान करती है।
3 डी एन ए की प्रतिकृति में परिवर्तन विभिन्नताए लाती है जो जीवो की उत्तरजीवित बनाये रखती है।

ncert solutions for class 10 science chapter 8


                  Page third
1 परागण क्रिया तथा निषेचन किस प्रकार भिन्न है?
परागण
1 परागण से पराग कणों के वर्तिकाग्र तक का परिवहन परागण कहलाता है।
2 इसमे कोशिकाये संलगित नही होती।
3 इस क्रिया को पूर्ण करने के लिए प्रायः वाहकों का इंतजार करना पड़ता है।

निषेचन
1 नर व मादा युग्मो का संयोजन निषेचन कहलाता है।
2 इसमे नर व मादा कोशिकाएं संलगित होती है।
3 यह क्रिया स्वयं होती है।

2 शुक्राणु एवं प्रोस्टेट ग्रंथि की क्या भूमिका है?
शुक्राणु एवं प्रोस्टेट ग्रंथि नर में होती है तथा इनका स्त्राव शुक्राणुओं को पोषण देता है। प्रोस्टेट ग्रंथि भी एक द्रव स्रावित करती है। इसी स्त्राव के माध्यम से शुक्राणु मादा जनन तंत्र में स्थानांतरित होते हैं अतः ये जनन क्रिया के लिए महत्वपूर्ण नर ग्रंथिया हैं।

3 यौनारम्भ के समय लड़कियों में कौन से परिवर्तन दिखाई देते हैं?
यौवनारम्भ के समय लड़कियों में दिखाई देने वाले परिवर्तन-
1 जननांगों के आस पास बाल आना।
2 वक्षो के आकार में वृद्धि होना।
3 राजोस्त्राव आरम्भ होना।

4 माँ के शरीर में गर्भस्थ भ्रूण को पोषण किस प्रकार प्राप्त होता है?
गर्भस्थ भ्रूण माँ के शरीर में एक रस्सीनुमा संरचना से अपरा के माध्यम से जुड़ा रहता है। अपरा का विकाश गर्भाशय की भिति पर होता है। सभी पोषक तत्व माँ के शरीर से अपरा के माध्यम से भ्रूण में प्रवेश करते हैं।

class 10 science chapter 8 question answer

5 यदि कोई महिला कॉपर टी का प्रयोग कर रही है तो क्या यह उसकी यौन संचारित रोगों से रक्षा करेगा?
नही, कॉपर टी यौन संचारित रोगों से उसकी रक्षा नही करेगी। क्योंकि यह केवल एक गर्भनिरोधक युक्ति है जो गर्भधारण से बचाव करती है।

                    अभ्यास प्रश्न
ncert solutions for class 10 science chapter 8

1 उत्तर -- b यीस्ट

2 उत्तर-- c शुक्रवाहिका

3 उत्तर-- d पराग कण

4 अलैंगिक जनन की अपेक्षा लैंगिक जनन के क्या लाभ हैं?
1 लैंगिक जनन से अधिक विभिनताये उत्पन्न होती है जो स्पीशीज के अस्तित्व के लिए आवश्यक है।
2 लैंगिक जनन में दो विभिन्न जीव हिस्सा लेते हैं। अतः संयोजन अतः अदृत होता है।

5 मानव में वृषण के क्या कार्य है?
1 वृषण वृषणकोष में स्थित होता है।
2 वृषण शुक्राणु उत्पन्न करता है।
3 वृषण नर जननांगों का अहम हिस्सा है।
4 वृषण द्वारा स्रावित हार्मोन शुक्राणु को पोषण प्रदान करते हैं इसके अतिरिक्त ये स्त्राव ही शुक्राणुओं के मादा स्थानांतरण में सहायता होते हैं।

6 ऋतुस्त्राव क्यों होता हैं?
अंडाणु का निषेचन शुक्राणुओं द्वारा होता है। ऐसा न होने पर अंडाणु लगभग एक दिन तक जीवित रहता है। इसके बाद गर्भाशय की मोटी तथा स्पंजी दीवार टूटकर रक्त व म्यूकस में बदल जाती है यह स्त्राव मादा योनि के रास्ते स्रावित हो जाता है। इसे ऋतुस्राव कहते हैं। यह स्त्राव हर माह होता है।

मानव नेत्र एवं रंगबिरंगा संसार

7 पुष्प के अनुदैधर्य काट का क्षेत्रफल का नामांकित चित्र तथा कार्यविधि।
इसमे नर भाग पुंकेसर और मादा भाग स्त्रीकेसर होता है। परागकोष से जब परागकण वर्तिकाग्र तक पहुचता है तो यह वर्तिका से होते हुए बीजांड तक पहुचता है। वहाँ निषेचन के बाद युग्मनज में अनेक विभाजन होते हैं तथा बीजांड में भ्रूण विकसित होता है। बीजांड में एक कठोर आवरण विकसित होता है तथा यह बीज में परिवर्तित हो जाता है। इस प्रकार एक जीवो में जनन होता है।
ncert solutions for class 10 science chapter 8


class 10 science chapter 8 question answer in hindi

8 गर्भ निरोधक की विभिन्न विधिया कौन सी है?

गर्भ निरोधक की विभिन्न विधियां निम्नलिखित है-
1 यांत्रिक विधियां-
यांत्रिक विधि स्त्री और पुरुष दोनों के लिए अलग अलग है। पुरुष के लिए कंडोम का उपयोग होता है। स्त्री के लिए कॉपर टी का उपयोग होता है।

2 रासायनिक विधि--
ऐसी विधि जिसमे विभिन्न रसायनों से निर्मित गर्भ निरोधक दवावो का प्रयोग किया जाता है, जो या तो जाइगोट को मार देता है, या तो मासिक चक्र को बंद कर देता है।

3 सर्जिकल विधि--
इस विधि के अंतर्गत पुरुष या स्त्री का नसबंदी अर्थात आपरेशन करके जनसंख्या को नियंत्रित किया जाता है।

9 एक कोशिकीय एवं बहुकोशिकीय जीवो की जनन पद्वतिमें क्या अंतर है?
एक कोशिकीय जीवो में सरल संरचना होती है अतः उनमे अलैंगिक प्रजनन होता है तथा जनन के लिए विशेष अंग नही होते। इनमे प्रजनन दो तरह से होता है। 1 द्विखण्डन तथा बहुखंडन

10 गर्भनिरोधक युक्तियां अपनाने के क्या कारण हो सकते हैं?
गर्भ निरोधक युक्तियां गर्भधारण को रोकने हेतु अपनाई जाती है। जीव प्रजनन क्रिया करते हैं एवं जीवो की वृद्धि करते हैं इस प्रकार यदि यह क्रिया निरंतर चलती रहे तो पृथ्वी पर जनसंख्या विस्फोट जो जायगा। इसके अतिरिक्त गर्भधारण के समय स्त्री के शरीर पर विपरीत प्रभाव पड़ता है। अतः अधिक बार यह इस प्रकार  गर्भनिरोधक हो सकती है। इस प्रकार गर्भनिरोधक युक्तियां परम आवश्यक है।

how do organisms reproduce class 10 notes ncert solutions



नोट-- आज की इस पोस्ट में मैंने आपको ncert book का क्लास10 विज्ञान का चैप्टर 8 का जीव जनन कैसे करते हैं इस पाठ के महत्वपूर्ण प्रश्न किये हैं।

Post a Comment

और नया पुराने